रिश्तों में ग़लतफ़हमियों को कैसे करें हैंडल? ……..क्या करें क्या ना करें केसे करे

छोटी-सी भी ग़लतफ़हमी रिश्ते में कड़वाहट ला सकती है, इसलिए बेहतर होगा कि रिश्ते में ग़लतफहमियां न आने दें और अगर आ ही गई हैं तो उसे फौरन दूर कर लें. आमतौर पर ग़लतफ़हमी का अर्थ होता है- ऐसी स्थिति जब कोई व्यक्ति दूसरे की बात या भावनाओं को समझने में असमर्थ होता है और जब ग़लतफ़हमियां बढ़ने लगती हैं, तो वे झगड़े का रूप ले लेती हैं, जिसका अंत कभी-कभी बहुत भयावह होता है…

पार्टनर की भावनाओं को न समझ पाना

ग़लतफ़हमी किसी कांटे की तरह होती है और जब वह आपके रिश्ते में चुभन पैदा करने लगती है, तो कभी फूल लगनेवाला रिश्ता आपको खरोंचे देने लगता है. जो जोड़ा कभी एक-दूसरे पर जान छिड़कता था, एक-दूसरे की बांहों में जिसे सुकून मिलता था और जो साथी की ख़ुशी के लिए कुछ भी करने को तैयार रहता था, वो जब ग़लतफ़हमी का शिकार होने लगता है, तो रिश्ते की मधुरता व प्यार को नफ़रत में बदलते देर नहीं लगती. फिर राहें अलग-अलग चुनने के सिवाय उनके पास कोई विकल्प ही नहीं बचता.

रिलेशनशिप एक्सपर्ट निवेदिता माथुर के अनुसार, “जीवनसाथी को मेरी परवाह नहीं है या वह स़िर्फ अपने बारे में सोचता है, इस तरह की ग़लतफ़हमी होना कपल्स के बीच एक आम बात है. अपने पार्टनर की प्राथमिकताओं और सोच को ग़लत समझना बहुत आसान है, विशेषकर जब बहुत जल्दी वह नाराज़ या उदास हो जाते हों और कम्यूनिकेट करने के बारे में केवल सोचते ही रह जाते हों.

असली द़िक्क़त यह है कि अपनी तरह से साथी की बात का मतलब निकालना या अपनी बात कहने में ईगो का आड़े आना, धीरे-धीरे फलता-फूलता रहता है और फिर इतना बड़ा हो जाता है कि ग़लतफ़हमी झगड़े का रूप ले लेती है. एक बार जब हम कम्यूनिकेशन न करने के निगेटिव चक्र में फंस जाते हैं, तो उसमें से निकलने या उसे सुधारने में बहुत व़क्त लग जाता है.”

इस article को पूरा पढ़ने के लिये Next Page पर जाये.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.