Diabetes कैसे control करें ? घरेलु उपाय

By | November 4, 2017

Diabetes को मधुमेह भी कहा जाता है जो आज एक common problem बन गयी है. आज के time में हमारा खान पान पर control न होना भी diabetes (sugar) होने के लिए responsible है. Diabetes में blood में sugar की मात्रा बढ़ जाती है. अभी तक sugar ठीक करने का कोई उपचार नहीं मिल सका है पर आप अपना blood sugar level control कर के एक normal life जी सकते हो. India में 5 करोड़ 70 लाख से ज्यादा लोगो को diabetes की बीमारी है और आज हर कोई यही जानना चाहता है कि diabetes काम कैसे करे. आप घर बैठे कुछ घरेलू नुस्खे use कर के अपनी diabetes को control कर सकते है. Diabetes 2 तरीके की होती हैं

पहला – इस में हमारी body insulin नहीं बनाती है.

दूसरा – इस में हमारी body में insulin पर्याप्त मात्रा में नहीं बनता या फिर जो insulin बनता हो वो ठीक से काम नहीं करता.

Diabetes के लक्षण – Symptom of diabetes

  • थकान
  • वजन काम होना
  • ज्यादा प्यास लगना
  • बार बार पेशाब आना
  • काट और चोट धीरे धीरे ठीक होना

Diabetes के घरेलु इलाज – Sugar ka gharelu ilaj

गेहू के ज्वारे – Wheat-grass

गेहू के ज्वारे मतलब wheat-grass को धरती की संजीवनी बूटी भी कहा गया है. पुराने समय में भारत में wheat-grass juice को अलग अलग बीमारियों के ईलाज में use किया जाता था. जब गेहू को अच्छी उपजाऊ जमीन में बोया जाता है तो कुछ ही दिनों में इसकी पत्तिया निकलने लगती है जिसे हम गेहू का ज्वारा कहते है, 5 से 6 दिन की पत्तिया बहुत लाभदायक होती है जो body को अच्छे तरीके से काम करने के लिए ताकत देती है. Wheat-grass diabetes के लोगो के लिए बहुत फायदेमंद रहा है क्योंकि यह carbohydrate में sugar level के स्तर की विनियमित करने में help करता है और इस तरह यह बड़े चरण की diabetes को भी control कर सकता है.

करेला

करेला एक कड़वे तरबूज के रूप में जाना जाता है, यह blood sugar के कम प्रभाव के कारण diabetes को control करने में सहायक हो सकता है. करेला insulin के स्राव में help करता है और insulin प्रतिरोध से बचाता है, इस करेला करेला दोनों तरीके की diabetes के लिए फायदेमंद है. करेले के juice को सुबह सुबह खाली पेट पीना चाहिए. सब से पहले दो से तीन करेले के बीज निकाल दे और उनका रस निकाले. फिर उसमे थोड़ा पानी डाले और पिए. काम से काम दो महीने तक ये juice सुबह खाली पेट पिए. इसके अलावा आप अपने आहार में भी करेला का बना एक dish शामिल कर सकते हैं.

दालचीनी

दालचीनी के powder में blood में sugar के स्तर को कम करने की क्षमता है. गर्म पानी के एक cup में दालचीनी का एक चम्मच डाल कर daily पिए. या फिर एक cup में पानी में दो से चार दालचीनी के लट्ठे दाल कर उबाले और 20 minute के लिए छोड़ दे और पिए.

मेथी के दाने

मेथी एक ऐसी जड़ी बूटी है कि यह भी diabetes को control करने और blood sugar के level में सुधार करने के लिए use किया जा सकता है. यह भी glucose पर निर्भर insulin के स्राव को उत्तेजित करता है. मेथी के बीज के दो बड़े चम्मच ले और रात भर पानी में भिगोये और फिर सुबह खाली पेट बीज के साथ-साथ पानी पिए. या फिर दूध के साथ मेथी के बीज का powder के दो बड़े चम्मच खाये.

आवला

आवला में विटामिन-c होता है जो आपके अग्नाशय को ठीक से काम करने में बढ़ावा देता है. 2 से 3 आवला ले उसके बीज निकाल दें और एक इसे पीस कर paste बना ले. एक कपडे में paste डाल कर रस निचोड़ ले. फिर इसमें एक cup पानी मिलाकर daily खाली पेट पिए. या फिर एक cup करेला के juice में आवला के रस के एक दो चम्मच मिलाये और daily पिए.

जामुन

जामुन भी blood sugar के स्तर को control करने में बहुत help कर सकता है. जामुन के पौधे के पत्ते, बेर और बीज हर चीज diabetes से पीड़ित लोगों द्वारा use किया जा सकता है. जामुन अग्न्याशय के लिए बहुत कारगर हो सकता है, हो सके तो आप इससे अपने आहार में शामिल करने के प्रयास करें. या फिर जामुन के सूखे फल के बीज का powder बना ले और पानी के साथ इससे दिन में दो बार खाये.

आम के पत्ते

आम के पत्तों को भी diabetes के इलाज के लिए use किया जा सकता है. रात भर एक glass पानी में 10 से 15 आम के पत्तों को भिगोये और सुबह में पानी छान कर खाली पेट पिए. आम के पत्तो को छाया में सुखाये और उन्हें पीस कर powder बना ले और daily आधा चम्मच दिन में दो बार खाये.

Aloe vera

Aloe vera भी diabetes control करने में काफी फायदेमंद हो सकता है. Aloe vera के पत्तों को रात में पानी में भिगोये और सुबह खाली पेट इसका पानी पिए. Daily Aloe vera का सेवन करने से diabetes कुछ ही दिनों में control कर सकेंगे. Aloe vera के पत्तो को छिल कर उसके रस को पि सकते है. Aloe vera की सब्जी बना कर भी खा सकते है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *