हमारे बुनियादी अधिकार कितना सही कितना गलत – How much wrong our basic rights? in Hindi

By | August 2, 2016

हमारे बुनियादी अधिकार कितना सही कितना गलत – How much wrong our basic rights? in Hindi
हमरे देश में नागरिक को बुनियादी अधिकार मिले हैं . जैसे , हर नागरिक को सम्मान से जीने का अधिकार , रोजी-रोटी कमाने का अधिकार . चाहे औरत हो या मर्द , दोनों को समान अधिकार मिले हैं . इन अधिकार्रों की सुरक्षा के लिए कानून बने हैं .

इन कानूनों को तोड़ना अपराध है . मर्द हो या औरत इन्हें तोड़ने पर उसे सजा हो सकती है . क्या आप इन बुनियादी अधिकारी के बारे में जानती हैं ? आइए , हम इनके बारे में जाने .

समानता का कानून – Law Of Equality

कानून की नजर में सब लोगों को समान दर्जा हासिल है . कोई ऊँचा नहीं , कोई निचा नहीं . महिला हो या पुरुष , किसी भी धर्म-जाती के हों , दलित हो या ठाकुर , कानून की नजर में सब बराबर हैं .

बेटा हो या बेटी , दोनों में भेदभाव करना कानूनन अपराध है . मजदुर चाहे औरत हो या मर्द , दोनों को समान काम के लिए समान वेतन (salary) मिलना चाहिए .

कानून कहता है शादीशुदा होने या माँ बनना नौकरी में बाधक नहीं . समानता का कानून सब जगह लागु होगा .

निजी आजादी से जुड़े अधिकार – Rights attached to individual freedom

  • हर नागरिक को अपनी निजी आजादी के लिए क़ानूनी अधिकार दिए गए हैं . ये इस प्रकट है –
  • अपनी बात कहने और अपने विचार जाहिर करने का अधिकार .
  • शांति के साथ बिना हथियार इकठ्ठा होने का अधिकार .
  • कोई भी व्यापार या व्यवसाय करने का अधिकार .
  • संघ या संस्था बनाने का अधिकार , या संगठित होने का अधिकार .
  • कहीं भी जाने या बसने का अधिकार .
  • सम्मान से जीने और रोजी-रोटी का अधिकार .

ये सभी अधिकार महिलाओं को भी उतने ही हासिल हैं जितने पुरुषों को . महिलाओं से इन अधिकारों को छिनना कानूनन अपराध है .
लेकिन सचाई क्या है ? क्या महिलाओं को ये अधिकार हासिल हैं ? महिलाओं को बचपन से चुप रहना सिखाया जाता है . उनके सरे फेसले कोई ओर तय करता है . चाहे पढाई का मामला हो , या शादी का , वे अपना निर्णय खुद नहीं ले पाती . शादी के बाद अगर नौकरी करना चाहती हिन् , या बच्चे कब और कितने चाहिए , इसका फेसला भी वह नहीं कर पाती . इसका मतलब यह हुआ कि उनके अपने शरीर पर भी उनका अधिकार नहीं .

कानून की नजर में ये सभी बातें गेर-क़ानूनी हैं . कुछ महिलाएं ये फेसला खुद ले पाती हैं , परंतु उनकी तादाद बहुत कम है .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *