हमारे बुनियादी अधिकार कितना सही कितना गलत – How much wrong our basic rights? in Hindi

हमारे बुनियादी अधिकार कितना सही कितना गलत – How much wrong our basic rights? in Hindi
हमरे देश में नागरिक को बुनियादी अधिकार मिले हैं . जैसे , हर नागरिक को सम्मान से जीने का अधिकार , रोजी-रोटी कमाने का अधिकार . चाहे औरत हो या मर्द , दोनों को समान अधिकार मिले हैं . इन अधिकार्रों की सुरक्षा के लिए कानून बने हैं .

इन कानूनों को तोड़ना अपराध है . मर्द हो या औरत इन्हें तोड़ने पर उसे सजा हो सकती है . क्या आप इन बुनियादी अधिकारी के बारे में जानती हैं ? आइए , हम इनके बारे में जाने .

समानता का कानून – Law Of Equality

कानून की नजर में सब लोगों को समान दर्जा हासिल है . कोई ऊँचा नहीं , कोई निचा नहीं . महिला हो या पुरुष , किसी भी धर्म-जाती के हों , दलित हो या ठाकुर , कानून की नजर में सब बराबर हैं .

बेटा हो या बेटी , दोनों में भेदभाव करना कानूनन अपराध है . मजदुर चाहे औरत हो या मर्द , दोनों को समान काम के लिए समान वेतन (salary) मिलना चाहिए .

कानून कहता है शादीशुदा होने या माँ बनना नौकरी में बाधक नहीं . समानता का कानून सब जगह लागु होगा .

निजी आजादी से जुड़े अधिकार – Rights attached to individual freedom

  • हर नागरिक को अपनी निजी आजादी के लिए क़ानूनी अधिकार दिए गए हैं . ये इस प्रकट है –
  • अपनी बात कहने और अपने विचार जाहिर करने का अधिकार .
  • शांति के साथ बिना हथियार इकठ्ठा होने का अधिकार .
  • कोई भी व्यापार या व्यवसाय करने का अधिकार .
  • संघ या संस्था बनाने का अधिकार , या संगठित होने का अधिकार .
  • कहीं भी जाने या बसने का अधिकार .
  • सम्मान से जीने और रोजी-रोटी का अधिकार .

ये सभी अधिकार महिलाओं को भी उतने ही हासिल हैं जितने पुरुषों को . महिलाओं से इन अधिकारों को छिनना कानूनन अपराध है .
लेकिन सचाई क्या है ? क्या महिलाओं को ये अधिकार हासिल हैं ? महिलाओं को बचपन से चुप रहना सिखाया जाता है . उनके सरे फेसले कोई ओर तय करता है . चाहे पढाई का मामला हो , या शादी का , वे अपना निर्णय खुद नहीं ले पाती . शादी के बाद अगर नौकरी करना चाहती हिन् , या बच्चे कब और कितने चाहिए , इसका फेसला भी वह नहीं कर पाती . इसका मतलब यह हुआ कि उनके अपने शरीर पर भी उनका अधिकार नहीं .

कानून की नजर में ये सभी बातें गेर-क़ानूनी हैं . कुछ महिलाएं ये फेसला खुद ले पाती हैं , परंतु उनकी तादाद बहुत कम है .

  • धन्यवाद आप सभी का जिन्होंने acchibaat.com को इतना प्यार दिया. आशा करती हूँ कि यूँ ही आपका प्यार हमेसा बना रहे. अगर आपको हमारी ये पोस्ट पसंद आई तो comment करना न भूलें, आपका साथ ही हमारे प्रेरणा का श्रोत है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*