जब बच्चों के साथ सफर करें – When to travel with children , In Hindi

जब बच्चों के साथ सफर करें – When to travel with children , In Hindi, jab bacche ko bahar le jaye to kya kare?

अक्सर जब आपका बच्चा छोटा होता है, तो आप सफर करने से डरती हैं. कई बार ऐसा होता है कि अपने बच्चे के परेशान करें के डर से आप घुमाने जाने की अपनी planning cancel कर देती होंगी. अगर ऐसा है, तो कब तक आप सफर करने को avoid करती रहेंगी ? और घर की चार दिवारी में घुटती रहेंगी ?
बच्चे की care करते हुए भी सफर किया जा सकता है. पर जरूरी है कुछ बातों का दयां रखने की , खासतौर पर जब सफर train से किया जाना हो.

जब भी आप train में सफर करने का plan बनाए तो कोशिश करें कि सफर दिन का हो. इससे आपका बच्चा ज्यादा normal feel करेगा. बच्चों को बिच-बिच में टहलाती रहे.

अगर आप किसी गर्म atmosphere वाली जगह जा रही हो, तो कोशिश करे कि बच्चे के dress soft और हलके हों.

गर्मी और पसीने से बच्चे को दूर रखने के लिए, डिम में कम से कम 3 बार उसके dress change करे. गोल घेरों वाली cap लगाये, जिससे बच्चे का सर और face धुप से बच पाए.

अगर आप लिसी hill station पर जा रही हैं तो बच्चों के dress ज्यादा ले जाने होंगे. बड़ो के मुकाबले बच्चों को ज्यादा सर्दी लगती है. वैसे भी सर्दियों में dress नहीं सूखते, इसलिए बच्चों के dress में कोई लापरवाही न बरते. अलग से paper और packet रखे, जिसमे आप dirty dress को इकट्ठा कर सके.

वैसे तो एक माँ से ज्यादा बच्चों की problem को और कोई नहीं समझ सकता, लेकिन सफर के दौरान बच्चे के doctor का contact number जरूर रखे.

Season change होने से या जगह बदलने से अक्सर बच्चों को सर्दी हो जाती है. खांसी, सर्दी, दस्त की medicines साथ ले जाना न भूले.

Rash Cream Gel ले जाये. Season change होने से बच्चे को allergy होने का डर रहता है, कमरे से बहार निकलने से पहले बच्चे के face और hand पर हल्का सा sunscreen जरूर लगाये.

Car में सफर के दौरान बच्चे को पीछे की sit पर बिठाये.

बहार का नजारा देखने का मन तो करेगा ही आपका. लेकिन कार की खिड़की खोलने से पहले एक बार देख लें कि कही आपके बच्चे की आँख में चुभने वाली धुप या हवा तो नहीं आ रही.

अगर आप plane से सफर कर रही है तो हवा का अचानक pressure बदल जाने की वजह से plane के take-off या landing के time बच्चे के कान में दर्द उठ सकता है. ऐसे में उस time बच्चे को अगर चूसने के लिए teether या दूध का bottle दिया जाये तो उससे मुंह के अन्दर गति पैदा होगी, वो कान के पास बन रहे pressure को काफी कम कर देगी और कान दर्द से छुटकारा दिलाएगी.

Mujhe Girlfriends Chahiye

Mujhe Boyfriend Chahiye

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.