भारी न पड़ जाए सिक्स पैक एब्स का जुनून – Secrets of Six Pack Abs, In Hindi

भारी न पड़ जाए सिक्स पैक एब्स का जुनून – Secrets of Six Pack Abs, In Hindi

चालीस पर जा चुके Bollywood के अभिनेताओं की तर्ज पर कम समय में body बनने का शौक घातक हो सकता है . Six pack और eight pack abs बनाने के लिए steroids का इस्तेमाल करने से भी नहीं चुक रहे है . ये medicines शरीर की capability तो बढ़ा देती है लेकिन इनका इस्तेमाल संतान पैदा करने की क्षमता को प्रभावित कर सकता है .

गठीले शरीर की चाह वो जुनून है जो बाजुओं की फूलती मांस-पेशियों के साथ बढ़ता जाता है . इसकी चाह में युवा steroids का इस्तेमाल करने लगते है जो शरीर के लिए बेहद घातक है .

भारी न पड़ जाए सिक्स पैक एब्स का जुनून - Secrets of Six Pack Abs, In Hindi

दरअसल सर्दियों में gym जाने वाले युवाओं को तादाद बढ़ जाती है . IT City के युवा भी Shahid Kapoor जैसी body पाने के लिये घंटो पसीना बहा रहे है . शहर के gym में बहुत से युवा steroids का इस्तेमाल भी कर रहे है . मांस पेशियों को मजबूत बनाने वाली ये medicines anabolic steroids के नाम से जानी जाती है . Body building में non-professional युवा इनका इस्तेमाल करते है .

शुरुआत में ये steroid शरीर को मजबूती देते नजर आते है लेकिन छोड़ देने पर शरीर द्वारा जाने वाला steroid प्रभावित होने जाता है . जबकि लम्बे समय तक इनका इस्तेमाल बेहद घातक है . इनके इस्तेमाल से संतान करने की क्षमता प्रभावित हो सकती है . आमतौर पर भूख बढ़ाने के लिए dexamethasone और  prednisolone जैसे साधारण medicines का भी इस्तेमाल किया जाता है .

जो शरीर को फुला देती है . मांस पेशियों को मजबूत बनने के लिए denazol , clastebol , protenozol जैसे दवाएं इस्तेमाल की जाती है जिनके प्रभाव खतरनाक है .

Steroid भयंकर नुकसान – Steroid ke side-effects

  1. शरीर का प्राक्रतिक steroid बनना बंद हो जाता है .
  2. इन्हें लेने वाले का behaviour आक्रामक हो सकता है .
  3. त्वचा पर मुहांसे ( pimples ) और खून के थक्के बन जाते है .
  4. तनाव की problem और बाल झड़ने शुरू हो जाते है .
  5. Blood pressure और hypertension का शिकार होना .
  6. Kidney और lever की समस्या का पैदा होना .
  7. शरीर में sodium और पानी की मात्रा बढ़ सकती है .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.