दाँतों का सौन्दर्य – Teeth Beauty Tips In Hindi

दाँतों का सौन्दर्य – Teeth Beauty Tips In Hindi, daato ko sundar kaise banaye, kaise apne daato ko sundar banaye, daato ko sundar banane ka upay/tarika

सफ़ेद , सुन्दर और मोतियों के समान चमकीले दांत चेहरे के सौन्दर्य को बढ़ाने वाले होते हैं . दांत न हो तो चेहरा सौन्दर्यहिन हो जाता है . इसलिए दांतों के प्रति कभी उपेक्षा का भाव नहीं रखना चाहिए . दांत गंदे होने से स्वांस भी दुर्गन्ध युक्त हो जाता है . इसलिए दांतों को स्वच्छ रखना व उनकी उचित देखभाल करना प्रत्येक स्त्री का पहला कर्त्तव्य है .

किसी भी नवयुवती के दांतों का असमय गिरना या मसूड़ों के खराब होने का उत्तरदायित्व और किसी पर नहीं , खुद उसी पर है . इसलिए प्रात: काल तो दांत साफ करने ही चाहिए , इसके अलावा हरेक खाने के बाद तुरंत कुल्ला करना भी अत्यंत आवश्यक है . रात्रि के भोजन के पश्चात् दांतों में अटके भोजन के कण निकालने के लिए दांतों पर brush करना बहुत आवश्यक है .

ध्यान रहे सुन्दर तथा स्वस्थ दांत आपके मुख (face) की सोभा भी है और साथ ही उत्तम स्वास्थ का प्रमाण भी . इसलिए इन्हें मोतियों जैसे चमकदार , सुन्दर तथा आकर्षक बनाए रखने के लिए इन पर विशेष रूप से ध्यान देना चाहिए .

ख़राब और सड़े दांतों के कारण मुहं से बदबू आने लगती है . इसका हानीकरक प्रभाव मसूड़ो पर भी पड़ता है और वो ढीले व कमजोर होने लगते है तथा उनसे मवाद और पीव आने लगता है . इसका मुख्य कारण केवल वही है कि अधिकांश युवतियां और महिलाएं दांतों की सफाई पर समुचित ध्यान नहीं देती है .

यदि आपके दांत खराब हो गये हों या उनकी जड़ो पर तथा पिछले भाग में पीले या काले रंग की मैल की पपड़ी जमा हो गई हो तो उन्हें तुरंत किसी योग्य दंत-चिकित्सक (dentist) की सहायता से साफ करा लेना चाहिए ताकि दांतों से होने वाला हानिकारक प्रभाव मसूड़ो आदि पर न पड़ने पाए .

गलत खान-पान तथा दोनों की सफाई में लापरवाही रखने से आपके मसूड़े कमजोर पड़ सकते हैं और उनके कमजोर पड़ने से तथा दांतों की जड़ों में जमें हुए मैल के प्रभाव से कुछ दिनों बाद इसमें से खून आने लगता है . यह पायरिया की शुरुआत है .

इन लक्षणों के प्रकट होते ही सावधान हो जाएँ और तुरंत इसका उपचार (check-up) करा लें अन्यथा रोग बढ़ जाने पर इसका निदान असंभव सा ही हो जाता है . आखिर में दांतों के निकलवाने के अलावा कोई और चारा नहीं रहता है .

जब पायरिया चरम सीमा पर पहुँच जाता है तो मसूड़ों की जड़ों में से खून की सीमा पर मवाद या पीव निकालने लगता है और यह लार तथा थूक के साथ पेट के अन्दर जाकर शरीर में अनेक प्रकार के उपद्रव पैदा कर सकता है . अच्छा तो यही है कि समय रहते इनकी सफाई पर पूरा ध्यान दिया जाए .

आप मुंह खोले तो प्रतीत हो कि ये दांत नहीं बल्कि मोती की लडियां हैं . आपके दांत जीवन भर आपका साथ दें इस तरह से इनकी रक्षा करें .
आजकल दांतों से संबंधित अनेक रोग देखने में आते हैं . जरा सा लापरवाही से कोई भी युवती या महिला अपने जीवन के अनेक सुखों से वंचित हो सकती है . दांत खराब होने से वो भोजन भी ठीक प्रकार से नहीं कर पाएंगी .

इस article को पूरा पढ़ने के लिये Next Page पर जाये.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *