क्यों मानते हैं हम गणतंत्र दिवस ? – Why We Celebrate Republic Day ? in Hindi

Hello दोस्तों , आज गणतंत्र दिवस ( जिसे हम republic day के नाम से भी जानते हैं ) के शुभ अवसर पे मैं रवि साव आप सभी को हार्दिक अभिनन्दन देना चाहता हूँ .. 67 से हम Republic day मना रहें हैं पर क्या आप ये जानते हैं कि हम Republic day क्यों मानते हैं ? सायद आपको पता होगा पर कई ऐसे भी है जिनको पता नहीं … मैंने YouTube पे एक video देखा था जिसमे एक survey के दौरान कुछ नागरिकों जीमने पुलिस अधिकारी , politicians , सेना के जवान सामिल थे .. उनसे ये पूछा गया था कि हम ये Republic day क्यों मानते हैं ? … you can’t believe कि उन लोगों को ये नहीं पता कि हम गणतंत्र दिवस क्यों मानते हैं …

हम भारत में रह कर भी इसके बारे में कम ही जानते है , जो की एक कड़वा सच है . तो आइए दोस्तों आज के इस पवन अवसर पर हम गणतंत्र दिवस के बारे में जाने .

26 January को हर साल एक एतिहासिक तिथि के तौर पर याद किया जाता है . 26 January 1950 को भारत का संविधान स्थापित किया गया था . क्या आप जानते हैं कि इस अवसर को कैसे याद किया जाता है ?

जी हाँ गणतंत्र दिवस जो हर साल 26 January को बड़े ही धूम-धाम से मनाया जाता है . 1950 में भारत एक गणतंत्र बन गया जो 15 अधिकारिक भाषाएँ , 26 स्वीकृत भाषाएँ , 5 धर्मों के समुदाय और अनगिनत संस्कृतियों का मिश्रण है .

Republic day की सुबह देश के President New Delhi में India Gate के निचे बने अमर जवान ज्योति को प्रणाम कर के कार्यक्रम start करते हैं . अमर जवान ज्योति एक अनंत ज्योति की सिखा है जो देश के लिए दिए गए बलिदान का प्रतिक है . उस बलिदान को प्रणाम कर President उन सारे दिग्गजों को पुरुष्कार देते हैं जिन्होंने अपने क्षेत्रों में असाधारण योगदान दिया है . भारत रत्न पुरुष्कार देश का सबसे श्रेष्ट पुरुष्कार है .

फिर Delhi के राज पथ से start होती है एक भव्य परेड . देश के शेना के विभिन्न रेज्मेंटे , वायु शेन और नौ शेन बड़े सजावट के साथ मार्च-पास्ट start करती हैं . ये time होता है रोमांचक प्रदर्शन का . इसके बाद आती है देश के एक-एक प्रदेश की अपनी टोली . ये टोलियां राज्यों की संस्कृति के वैभव को प्रस्तुत करती है .

ये चलती हुई परेड हर राज्य के लोग , संस्कृति , नृत्य , पहलावे और विशेष भोमिक पदार्थ आदि का प्रदर्सन करती हैं . इसे देखने के लिए हजारों नागरिक आते हैं और ज्यादातर लोग TV के माध्यम से इसका आनंद उठाते हैं .

भारत का संविधान world के सारे स्वतंत्र देशों की संविधान से लम्बी है . इसमें 448 articles हैं और 118 amendments हैं . यह भारत की एक स्वतंत्र (independent) , लोकतान्त्रिक (democratic) , धर्मनिरपेक्ष (secular) , समाजवादी गणतंत्र (socialist republic) होने की घोषणा करती है .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *