उड़ता कछुआ – Flying Turtle Hindi Story

इस आर्टिकल को अपने अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे
  •  
  •  
  •  

उड़ता कछुआ -  Flying Turtle Hindi Story
उड़ता कछुआ – Flying Turtle Hindi Story

बहुत समय पहले एक तालाब में संकट और विकट नमक दो हंस रहते थे . उसी तालाब में एक कछुआ भी रहता था जिसका नाम था कम्बुग्रीव . वह कुछ मुर्ख था . साथ रहने के कारण कम्बुग्रीव की दोनों हंसों से मित्रता हो गई थी .

एक दिन कुछ मछुआरे उस तालाब के निकट आ पहुंचे . एक मछुआरा बोला , ‘ हाँ भाई , यह है वह तालाब , जिसमें खूब बड़ी-बड़ी मछलियाँ है . ‘

इस पर दूसरा मछुआरा बोला – ‘ इसमें सिर्फ मछलियाँ ही नहीं कछुएं भी हैं . ‘
यह सुनकर तीसरे मछुआरे ने कहा – ‘ ठीक है भाईयों , कल हम लोग इसी तालाब में जाल डालेंगे . आओ चलें , रात होने वाली है . ‘

मछुआरों की बातें सुनकर कछुआ चिंतित और परेशान हो उठा . इस पर संकट हंस बोला – ‘ धेर्य रखो मित्र , कल की बात कल सोचेंगे . क्या पता , वे मछुआरे इधर आते भी हैं या नहीं . यदि वे आ गए तो तुम्हे बचाने का कोई उपाय भी सोच लेंगे . ‘

कम्बुग्रीव कछुआ बोला – ‘ संकट की घड़ी में तो तुम दोनों उड़ जाओगे , लेकिन मैं बेमौत मारा जाऊंगा . इसलिए तुम कोई ऐसा उपाय सोचो कि मैं किसी दुसरे सरोवर में शिघ्रातीशीघ्र पहुँच जाऊं . ‘

 

इस पर विकट हंस बोला – ‘ दुसरे सरोवर तक की दुरी स्थल मार्ग से तुम कैसे तय कर पाओगे . तुम्हारी चाल तो काफी सुस्त है . ‘

कछुआ बोला -‘ मित्रो , कोई ऐसा उपाय करो कि मैं आप लोगों के साथ आकाश मार्ग से उड़कर दुसरे सरोवर तक पहुँच जाऊं . इसमें कम समय लगेगा . ‘

संकट हंस बोला – ‘ ये असंभव है . ‘
इस पर विकट हंस बोला – ‘ ऐसा संभव हो सकता है . मगर इसमें बहुत खतरा है . ‘
कछुआ बोला – ‘ खतरा तो उठाना ही पड़ेगा . बस तुम उपाय बताओ . ‘

 

संकट और विकट हंस ने उसे समझाते हुए कहा – ‘ हम दोनों लकड़ी के एक डंडे को दोनों छोरों से अपने पंजों से पकड़ लेंगे . तुम उस डंडे को बिच से अपने मुंह द्वारा पकड़कर लटक जाना . इस प्रकार हम तुम्हे उड़ाकर दुसरे सरोवर तक पहुँचा देंगे . लेकिन इस उपाय में खतरा भी है . जब हम तुमको अपने साथ ले उड़ेंगे तो उस दृश्य को देखकर बहुत से लोग आश्चर्य से टिका-टिप्पणी भी करेंगे . तुम्हे चुप रहना होगा . यदि बोले तो आकाश से सीधे पृथ्वी पर जा गिरोगे . ऐसे में तुम्हारा क्या होगा , यह तुम अच्छी तरह जानते हो . ‘

यह सुनकर कछुआ बोला – ‘ भाई मैं मुर्ख नहीं हूं जो अपना मुंह खोलूँगा . लोग चाहे कुछ भी बोलें , मैं उनकी बातों की ओर कोई ध्यान ही नहीं दूंगा . ‘

फिर दोनों हंसों ने लकड़ी का एक डंडा खोजकर उसके दोनों छोरों को अपने पंजों में दबा लिया और कछुए ने उस डंडे को बिच से अपने मुंह द्वारा पकड़ लिया , इसके बाद तीनों आकाश मार्ग से उड़ चले .

इस प्रकार हंसों और कछुए को उड़ते देख निचे खड़े लोग तरह-तरह की बातें करने लगे .कुछ बच्चे आश्चर्यचकित होकर उनके पीछे-पीछे दौड़ने लगे .

 

उन बच्चों को अपने निचे दौड़ता देख कछुआ नाराज हो गया और उसने जोर से कहा ‘ भाग जाओ ‘ मगर वह सिर्फ ‘ भाग ‘ ही कह पाया था कि बोलने की वजह से उसके मुंह से डंडे की पकड़ छुट गई और वह धड़ाम से निचे गिरा और उसकी इस मुर्खता ने उसके प्राण ले लिए .

तो दोस्तों इस कहानी से हमें क्या सिक्षा मिला क्या आप बता सकते हैं ? चलो मैं ही बता देता हूं जिस प्रकार जब आप कोई नए काम की शुरुवात करते हो तो आपको लोगों के comments का सामना करना पड़ता है ..
ऐसा कैसे होगा ?
तुम नहीं कर पाओगे ..
क्या तुम बेवकूफ हो , जो ऐसा कर रहे हो ..
लगता है पागल हो गया है ..
ऐसे कई comments है जिसे आपको सुनने पड़ेंगे , पर अगर आपका goal fixed है तो आपको दोसरों की बातों को एक कान से सुननी है और दुसरे कान से निकाल देना है , पर क्या ऐसा होता है … हम ऐसे comments सुनने के आदि नहीं है , और नाराज हो जातें है , हमें गुस्सा आता है और इसी के चलते हम अपने goal से भटक जाते हैं .

इसलिए अपने goal पर ध्यान एकत्रित करें क्यों की ‘ कुछ तो लोग कहेंगे , लोगों का काम है कहना . ‘


इस आर्टिकल को अपने अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to top