दूसरों की प्रशंसा करना या तारीफ करना एक कला है। प्रशंसा से ऐसा नहीं लगना चाहिए कि आप सामने वाले की बुराई कर रहे हो। तारीफ करने का सही तरीका क्या है आइए जानते है। Complement देना और complement accept करना एक बहुत असामान्य सी चीज है, जिसमे भावनाएं शामिल होती है और चाहे हमारे इरादें अच्छी रही हो, लेकिन जिस तरह से हमारे शब्द दूसरों के ऊपर असर करती हो वो शायद हमारे complement को carry out न कर पाए।

तो पहले जानते है कुछ ऐसे complement जो आपने अपने जीवन में कभी न कभी जरुर सुने होंगे और जिन्हें एक hidden slap रहता है। पहला complement वो है जो grammatically भी incorrect है और जो कहने के लिए भी गलत है। आपने किसी को देखा, आपको उनके कपड़े अच्छे लगे और आपने उनको बोला – ‘ You Are Looking Good Today ‘ ये complement आपने जरुर सुना होगा और कहा भी होगा।

दूसरों कि तारीफ कैसे करे? Tarif Kaise Kare?

तो ये जो कहना है कि  ‘ You Are Looking Good Today ‘ grammatically ये incorrect इस लिए है कि आपने ये indicate किया उस sentence से कि उस दिन के लिए और उन कपड़ों में ही वो इंसान अच्छा लगता है जो obviously आपका इरादा नहीं होनी चाहिए।

जानबूझ कर और complementary ये गलत इसलिए है कि आपने ये indicate कर दिया कि इन कपड़ों के अलावा और इस look के अलावा शायद वो इंसान इतना अच्छा न लगे। आपकी इरादा ऐसी नहीं होती पर ऐसा कहना जरुर गलत होता है।

दूसरी जो गलती है, वो लोग ये करते है कि complement करने की जगह एक jealousy वाली feeling express करते है जिसको मैं अपनी language में बोलू तो ‘हाय‘ के साथ complement. English वाला hi नहीं Hindi वाला ‘हाय‘।

जिसका एक example ऐसा हो सकता है कि किसी ने कुछ पहना और जो आपको अपने लिए भी अच्छा लगा और उनके लिए भी अच्छा लगा तो बजाय ये कहने के कि ये आपके ऊपर बहुत अच्छा लगा रहा है, आप कहेंगे ‘ हाय कितना अच्छा लग रहा है ‘।

जिस समय आप ऐसी बात करते हैं तब आप दूसरों को feel कराते  हो कि जो चीज उनकी है उसे आप पसंद करते हो और वो चीज उनपर अच्छी नहीं लगती।

तीसरी जो है या जो complement है थोड़ा सा problematic होता है, वो ये है जिसमे आप बगैर किसी की advice मांगे undauntedly आप advice देते है।

जैसे कि किसी ने कोई एक नया कपड़ा पहना है या कोई नया style try किया,  Obviously उस दिन वो सोचते हैं कि आज मैं office जाऊंगा और लोग मेरे बारे में कुछ अच्छा बोलेंगे, क्योंकि आज मैंने कुछ नया try किया है।

पर हम उनको appreciate करने की बजाय हम या कहते है – ‘ ये तो बहुत अच्छा लग रहा है, लेकिन इसके साथ अगर ऐसा कुछ करते तो और भी अच्छा लगता ‘।

जब आप किसी complement के साथ ‘ लेकिन, if, but ‘ जिसे शब्दों का इस्तेमाल करते हो तो वो complement नहीं। तो office place में हमे ये याद रखना है कि जो लोग हमारे साथ काम करते है, जो लोग हमारे ऊपर या नीचे काम करते है, उन सब की एक personal life भी रहती है।

जिस तरह से वो सुबह कपड़े पहनते है, dress पहनते है, अपने आपको represent करते है, उसके पीछे बहुत सारी चीजें होती हैं जो हमे नहीं पता चलती।

सुबह शायद किसी की लड़ाई हुई हो, शायद उनकी नींद न खुली हो तो वो किस तरीके से तैयार होकर आते है उसका background story न पता हो और उसके बावजूद भी हम उनको complement करे और ऐसे complement करे, उससे अच्छा क्या है वो हम देखते है।

जब आपको किसी को complement करना है उनके style पे या फिर उन्होंने जो पहना उसके लिए तो you choose this words – ‘ This looks good on you, this style suits you, this cloth is very good on you, this fabric is lovely on you, this hairstyle is very good for you ‘. इतने सारे तरीके है complement करने के। आपने सिर्फ उनको ये बताया कि आपने जो पहने है वो आप पे बहुत खिल रहा है।

अगर if you want to complement a person मतलब आपको उनके कपड़े और उनके style पर complement नहीं करना है, आपको उनकी personality पर complement करना है। तो you can use words like – ‘ I Love the way you are, I love the way you present your self, I really admire the way you behave. ‘

तो इनमे आपने notice किया होगा कि मैंने कही पे भी कपड़ो की, fashion की, style की बात नहीं की लेकिन तब भी मैंने उन्हें complement दिया।

अगर आप छोटे-छोटे बदलाव अपने behavior में बनाए तो आपको realize होगा कि complement जो है actually में complement रहते हैं।