आप blogger हो और अपने ब्लॉग पर हमेशा पोस्ट publish करते हो तो आपके मन में ये सवाल जरुर आता होगा कि कैसे unique आर्टिकल लिखा जाए और unique आर्टिकल लिखने के लिए research कैसे करे? हर blogger चाहता है कि उसके ब्लॉग पर वो ऐसे-ऐसे आर्टिकल लिखे जो इंटरनेट पर मौजूद ही न हो और अगर हो भी तो उनका आर्टिकल इतना unique हो कि उसे पढ़ने के बाद लोग उससे कुछ नया सीखे और किसी दूसरे ब्लॉग पर जाने कि जरुरत ही न हो।

पर क्या आप ऐसा करने में कामयाब हो? क्या आप हमेशा अपने ब्लॉग पर ऐसे content publish करते हो जो unique है? आज का हमारा पोस्ट इन सभी सवालों के जवाब लेकर आया है और आज आप जानोगे कि सही मायने में unique आर्टिकल लिखने के लिए research कैसे किया जाता है?

आप अपने ब्लॉग पर unique content यानि कि unique आर्टिकल लिखते है तो क्या आपको सच में पता है कि ये unique आर्टिकल होता क्या है? चलिए सबसे पहले आपको इसके बारे में बता दें।

Unique आर्टिकल होता क्या है?

Unique का मतलब होता है सबसे अलग और Unique आर्टिकल का मतलब है कि ऐसा आर्टिकल जो सबसे अलग हो। अगर आप अपने ब्लॉग पर ऐसा आर्टिकल लिख कर publish करते हो जो कि इंटरनेट पर मौजूद ही नहीं है तो वो unique आर्टिकल ही है।

आप हमारे इसी पोस्ट को देख सकते हो हमारे इस पोस्ट का title है ” Unique आर्टिकल लिखने के लिए Research कैसे करे? ” अगर आप इस आर्टिकल को गूगल पर search करोगे तो आपको एक भी ऐसा आर्टिकल नहीं मिलेगा जो आपको इसके बारे में जानकारी देती होगी। तो हुआ न हमारा आर्टिकल unique। आप हमारे ब्लॉग पर ऐसे भी आर्टिकल देख सकते हो जिसके बारे में पहले से इंटरनेट पर जानकारी मौजूद है, जैसे –

  • Blog कैसे बनाये?
  • अपने ब्लॉग से पैसे कैसे कमाए?
  • Adsense approval कैसे करे?
  • SEO क्या है?

अगर आप इन सभी विषय को इंटरनेट पर search करोगे तो आपको दुनिया भर कि जानकारियाँ मिल जाएगी, अब यहाँ पर सवाल ये आता है कि क्या जो आर्टिकल पहले से इंटरनेट पर मौजूद है उसी विषय पर अगर हम दोबारा आर्टिकल लिख कर publish करते है तो क्या वो आर्टिकल unique होगा? इस सवाल का जवाब जानने के लिए सबसे पहले आपको ये जानना होगा कि unique आर्टिकल कितने प्रकार के होते है।

Unique आर्टिकल कितने type के होते है?

Unique आर्टिकल 2 प्रकार के होते है

  1. ऐसा आर्टिकल जो कि इंटरनेट पर मौजूद हो।
  2. ऐसा आर्टिकल जो कि इंटरनेट पर मौजूद ही न हो।

आपको थोड़ी confusion जरुर हुआ होगा कि ” ऐसा आर्टिकल जो इंटरनेट पर पहले से मौजूद है वो unique कैसे हो सकता है? चलिए इनके बारे में भी जान लेते है।

1. ऐसा आर्टिकल जो कि इंटरनेट पर मौजूद हो

अब आप सोचते होंगे कि अगर कोई आर्टिकल इंटरनेट पर पहले से मौजूद है और उसी के बारे में हम आर्टिकल लिख के publish करते है तो वो आर्टिकल unique कैसे हो सकता है? तो दोस्तों हम यहाँ आर्टिकल को copy-paste करने कि बात नहीं कर रहे, हम यहाँ पर ये कहना चाहते है कि आपके आर्टिकल लिखने का तरीका कैसा है, अगर आप ऐसा आर्टिकल लिख सकते हो जो सबसे बेहतर और informative है तो आप चाहे कोई सा भी आर्टिकल लिख कर publish कर दो वो unique आर्टिकल ही कहलायेगा।

लेकिन एक बात तो है कि अगर आप ऐसे विषय पर unique आर्टिकल लिखते हो तो उस आर्टिकल को search engine पर rank करने में समय जरुर लगता है।

अब बात आती है कि कैसे किसी भी आर्टिकल को unique बनाया जाए? अगर आप किसी ऐसे विषय पर आर्टिकल लिख रहे हो जो इंटरनेट पर पहले से मौजूद है तो आपको उस आर्टिकल पर research करने के लिए बहुत से पोस्ट इंटरनेट पर मिल जाते है, जो कि आपकी सहायता करते है कि आप अपने आर्टिकल को unique बना सको।

आपको अपने आर्टिकल में additional information add करनी होगी, जैसे अगर आप एक पोस्ट लिख रहे हो जिसका title है ” ब्लॉग कैसे बनाये ” तो आपको अपने आर्टिकल में जो जानकारी देनी है दे दीजिए, लेकिन additional information में ये भी बताइये कि ब्लॉग बनाने के बाद क्या करना होता है। इससे आपका पोस्ट unique हो जायेगा।

2. ऐसा आर्टिकल जो इंटरनेट पर मौजूद ही न हो

आप ऐसे विषय पर आर्टिकल लिख रहे हो जो इंटरनेट पर मौजूद ही नहीं है तो वो आर्टिकल अपने आप unique हो जाता है। ऐसे आर्टिकल search engine पर हमेशा top rank में नजर आते है।

आप बहुत आसानी है उन सभी विषय पर unique आर्टिकल लिख सकते हो जो पहले से इंटरनेट पर मौजूद होते है, क्योंकि आप उस विषय पर research कर सकते हो लेकिन जब बात आती है ऐसे विषय पर आर्टिकल लिखने कि जो इंटरनेट पर मौजूद ही न हो तो उस विषय पर research करना मुश्किल हो जाता है। इसी मुश्किल को आसन करने के लिए हम आपको वो तरीका बताने वाले है जिसे अगर आप follow करते हो तो आप भी unique पोस्ट लिख कर publish कर सकते हो।

Unique आर्टिकल लिखने के लिए Research कैसे करें?

आज का हमारा पोस्ट अपने आप में एक बहुत बड़ा विषय है जिसे हर blogger को जानना बहुत जरूरी है, लेकिन ज्यादातर blogger इसे हलके में लेते है और blogging करना उनके लिए confusing हो जाता है। हर blogger शुरुवात में ऐसे ही विषय पर पोस्ट लिख कर publish करता है जो इंटरनेट पर पहले से मौजूद होते है।

ये सामान्य सी बात है, और ऐसा करना भी चाहिए। ऐसा करने पर सबसे पहले तो हम blogging से परिचित हो जाते हो, हमारी क्षमता में सुधार होता है और हमारी writing skill भी develop होने लगती है।

कुछ blogger हमेशा उसी विषय पर पोस्ट लिखते है जो इंटरनेट पर मौजूद होती है और कुछ ऐसे विषय पर आर्टिकल लिखते है जो इंटरनेट पर नहीं होती। इन दोनों में जमीन आसमान का फर्क है, क्योंकि ऐसे विषय पर आर्टिकल लिखना जो कि इंटरनेट मौजूद है ही नहीं थोड़ा मुश्किल रहता है जिसके बारे में research नहीं किया जा सकता।

Unique आर्टिकल लिखने के लिए जो research कि जाती है वो है ” एक ही विषय पर blogging करना “। जब आप एक ही विषय पर blogging करते हो तो आपको खुद-बा-खुद ऐसे ideas और अनुभव मिलते है जिसके बलबूते आप unique आर्टिकल लिखने लगते हो।

Unique आर्टिकल लिखने का मतलब यही होता है कि आप अपने अनुभव और सोच को अपने ब्लॉग पोस्ट के जरिए सभी के साथ share करो, और ऐसा तभी हो सकता है जब आपकी नीव मजबूत होगी। जब आप किसी एक विषय पर कई सरे पोस्ट लिख कर publish करते हो तो आप उस विषय पर धीरे-धीरे strong होते जाते हो, यानि कि आपका नीव मजबूत हो रहा है।

और जब आपका blogging का नीव मजबूत हो जायेगा तब आप असाधारण सोचोगे, आपके मन में ऐसे ऐसे ख्याल आयेंगे जो कि आपको एक नए और unique पोस्ट लिखने कि प्रेरणा देंगे।

उदाहरण के लिए – एक software है जिसका नाम है – MS PAINT, आपके computer में ये software जरुर होगी, पर क्या आप इस software में बारे में पूरी तरह जानकारी रखते हो? अगर हाँ तो आप MS PAINT के वो सभी features और functions कि सहायता से एक बहुत ही अच्छा image design या edit कर सकते हो। Blogging भी ठीक इसी कि तरह है अगर आप एक ही विषय पर लगातार blogging करते हो तो आपके दिमाग वो सभी विषय और concept रहते है जो कि इंटरनेट पर मौजूद है और आप उन सभी के बारे में जानते हो, तब आप खुद ऐसे-ऐसे विषय पर आर्टिकल लिखने लग जाते हो जो कि unique होती है।

निष्कर्ष – CONCLUSION

Unique आर्टिकल लिखने का बस एक ही तरीका है कि आप ऐसे विषय पर unique आर्टिकल लिखो जो पहले से इंटरनेट पर मौजूद है, आप अपने ब्लॉग विषय के basic concept को strong करो ताकि आप जिस विषय पर अपना ब्लॉग बनाए हो उससे संबंधित सभी basic ideas आपको पता हो ताकि आप खुद अपने अनुभव से ऐसे आर्टिकल लिखने लग जाओ जो कि इंटरनेट पर मौजूद ही न हो।

हमारे आज के पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको क्या लगता है कि आप एक unique आर्टिकल लिखे के लिए कितने capable हो? आप अपना valuable feedback comment के जरिए जरूर दें। HAPPY BLOGGING