Biography of Stephen Hawking IN HINDI

अब आप हमसे directly बात कर सकते हो.. ज्यादा जानकारी के लिए निचे दिए गए contact बटन पर click करे.

Biography of Stephen Hawking IN HINDI
Biography of Stephen Hawking IN HINDI

मुझे मौत से कोई डर नहीं लगता .

लेकिन मुझे मरने के भी कोई जल्दी नहीं है .

क्योंकि मरने से पहले जिंदगी में बहुत कुछ करना बाकी है .

ऐसा कहना है महान और अदभुद Scientist Stephen Hawking का . जिसके शरीर का कोई भी अंग काम नहीं करता . वो चल नहीं सकते वो बोल नहीं सकते . वो कुछ कर नहीं सकते लेकिन फिर भी जीना चाहते हैं .

Stephen का कहना है की मृत्यु तो निश्चित है लेकिन जन्म और मृत्यु के बिच कैसे जीना चाहते हैं वह हम पर निर्भर करता है . चाहे जिंदगी कितनी भी कठिन हो आप हमेसा कुछ न कुछ कर सकते हैं और सफल हो सकते हैं .

 

Stephen Hawking का जन्म 8 January 1942 में England के Oxford शहर में हुआ था . जब Stephen Hawking का जन्म हुआ उस समय 2nd world war चल रहा था . Stephen Hawking के माता-पिता Landon के Highgate city में रहते थे . जहा पर अक्सर बम-बारी हुआ करती थी , जिसकी वजह से वे अपने बेटे के जन्म के लिए Oxford चले आए . जहा पर सुरक्षित रूप से Stephen Hawking का जन्म हुआ .

 

बचपन से ही Stephen Hawking intelligent थे . उनके पिता एक Doctor और माँ एक house wife थी . Stephen Hawking की बुद्धि का परिचय इसी बात से लगाया जा सकता है कि बचपन में उन्हें लोग Einstein कहकर पुकारते थे . उन्हें Mathematics में बहुत दिलचस्पी थी . यहाँ तक की उन्होंने पुराने electronic equipment से computer बना दिया था .

17 वर्ष की age में उन्होंने Oxford University में दाखिला ले लिया . Oxford में पढाई के दौरान उन्हें अपने daily work करने में थोड़ी दिक्कत आने लगी थी . एक बार Stephen Hawking छुट्टियाँ मानाने के लिए अपने घर पर आए हुए थे . तभी सीढ़ियों से उतरते समय वो बेहोस हो गए और निचे गिर गए . सुरु में तो सभी weakness मानकर ज्यादा ध्यान नहीं दिया . लेकिन बार-बार इसी तरह के बहुत से अलग-अलग problems होने के बाद check करवाया तो पता चला कि उन्हें कभी न ठीक होने वाली बीमारी है , जिसका नाम Neuron Motor Disease था . इस बीमारी में मांस-पेशियों को control करने वाली सारी नसे धीरे-धीरे काम करना बंद कर देती है . जिससे शरीर अपंग हो जाता है और पुरे body parts काम करना बंद कर देते हैं .

Doctor का कहना था कि Stephen Hawking सिर्फ 2 साल जी सकते हैं , क्योंकि अगले दो सालो में उनका पूरा शरीर धीरे-धीरे काम करना बंद देगा . Stephen Hawking को भी इस बात से बहुत बड़ा सदमा लगा . लेकिन उन्होंने कहा –

मैं ऐसे नहीं मर सकता .

मुझे जीवन में बहुत कुछ करना तो अभी बाकी है .

 

Stephen Hawking ने अपनी बीमारी को side में रखते हुए तुरंत अपने वैज्ञानिक जीवन का सफर सुरु किया और अपने-आपको पूरी तरह विज्ञान को समर्पित कर दिया . धीरे-धीरे उनकी ख्यात पूरी दुनिया में फैलने लगी . उन्होंने अपनी बीमारी को एक वरदान के रूप में समझ लिया था . लेकिन वहीँ दूसरी तरफ उनका शरीर भी उनका साथ छोड़ता चला जा रहा था . धीरे-धीरे उनका बाया हिस्सा बिलकुल काम करना बंद कर दिया . बीमारी बढ़ने पर उन्हें weel-chair का सहारा लेना पड़ा .

उनकी ये chair एक computer के साथ बनी है  , जो उनके सर , उनकी आँखों और उनके हाथों की vibration से पता लगा लेती है कि वो क्या बोलना चाह रहें हैं .

 

धीरे-धीरे Stephen Hawking का शरीर पूरा काम करना बंद कर दिया था . लेकिन उस बीमारी में एक plus point भी था कि इस बीमारी से Stephen Hawking सिर्फ शारीरिक रूप से अपंग हो रहे थे न की मानशिक रूप से . उसके बाद लोग यूँ ही देखते चले गए और Stephen Hawking मौत को मात पे मात दे रहें थे . उन्होंने black hole का concept और Hawking radiation का महान विचार दुनिया को दिया .

उन्होंने अपने विचारों को और भी easily समझाने के लिए एक किताब लिखी ‘ A BRIEF HISTORY OF TIME ‘ . जिसने दुनिया भर के विज्ञान जगत में तहलका मचा दिया .

 

Friends Stephen Hawking एक ऐसा नाम है जिन्होंने शारीरिक रूप से विकलांग होने के बावजूद अपने self-confidence के बल पर world का सबसे अनूठा वैज्ञानिक बनकर दिखाया है . जो world में न केवल अदभुद लोगों बल्कि सामान्य लोगों के लिए प्रेरणा बने हैं .

One Reply to “Biography of Stephen Hawking IN HINDI”

  1. अगर आपको ये article पसंद आई तो comment करना न भूलें … आप अपने विचार भी comment के माध्यम से share कर सकते हैं .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *