बच्चों का जिद्दी स्वभाव – Children’s stubborn nature in Hindi

अब आप हमसे directly बात कर सकते हो.. ज्यादा जानकारी के लिए निचे दिए गए contact बटन पर click करे.

बच्चों का जिद्दी स्वभाव – Children’s stubborn nature in Hindi, baccha bahut jid karta hai kya karu, baccha bahut jiddi hai, bacche ki jid ki aadat, baccha jid kare to kya kare?

बच्चे स्वभाव (nature) से ही शरारती होते हैं , यह सच है . लेकिन यब भी सच है कि कुछ बच्चे स्वभाव से ही जिद्दी होते हैं . आपने कभी सोचा है कि कुछ बच्चें जिद्दी स्वभाव के क्यों होते हैं ?

इसमें माता-पिता ही भूमिका सबसे ज्यादा होती है . ऐसे भी माता-पिता होते हैं , जिनके लिए अपने बच्चों से प्यारा और कोई नहीं होता . भले ही गलती अपने बच्चे की हो , लेकिन उसके लिए वे अपने दोस्तों और परिवार के लोगों से भी झगड़ बैठते हैं .

उसका बच्चा अगर कुछ बुरा भी करता है , तो तो उनके लिए वह बुरा नहीं होता बल्कि अच्छा ही होता है . क्या मजाल जो किओ दूसरा उनके बच्चे की ओर उंगली उठा सके अथवा उसे कुछ कह सके .

ऐसे माता-पिता अपने बच्चे की हर उचित अनुचित मांग को पूरा करते हैं और इन सब बातों का परिणाम यह होता है कि उनका बच्चा जिद्दी बन जाता है .

ऐसे माता-पिता के बच्चे कितने जिद्दी होते हैं , इस सम्बन्ध में कई उदाहरण आपने अपने आस -पास देखे होंगे . बच्चे जिद्दी क्यों होते हैं ? मैंने जब इस विषय में एक शिक्षक से बात की तो उसने एक उदाहरण देते हुए बताया –

‘ दीपावली से दो दिन पहले हमारे घर कुछ मेहमान आए थे . साथ में 6 वर्षीय बेटा भी था . उस बच्चे ने खाने की मेज पर कुछ ऐसी चीजों की मांग रखी , जिन्हें पूरा कर पाना हमारे लिए संभव न था . नतीजा ये हुआ कि बच्चे ने गुस्से में कई प्लेट तोड़ दी . हमें बुरा लगा पर अतिथि महोदय बच्चे को उस तोड़-फोड़ को शरारत मानकर मुस्कराते रहें . अचानक मेरे मुंह से निकाल गया . ‘ माफ़ करें , बच्चों को इतना जिद्दी नहीं होना चाहिए . ‘

इस article को पूरा पढ़ने के लिये Next Page पर जाये >>

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *