True Love और Attraction में क्या फर्क होता है ?

इस आर्टिकल को अपने अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे
  •  
  • 2
  •  

Difference Between True Love And Attraction .. In HINDI आज हम जानेगे कि क्या अंतर होता है true love और attraction में. Normally पहली नजर मे हमें किसी का चेहरा पसंद आ जाता है, किसी की आँखें पसंद आ जाती है, किसी की smile पसंद आ जाती है, किसी का behaviour पसंद आ जाता है या किसी का बात करने का style पसंद आ जाता है … इसे पहली नजर का प्यार कहते है , Love at first sight?

Difference Between True Love And Attraction .. In HINDI

College के दीनो मे, school के दीनो मे या कम उमर मे होनेवाले ज़्यादातर प्यार attraction ही होता है. इसमे feeling तो प्यार वाली ही होती है लेकिन कम उमर होने के कारण प्यार का इजहार करने मे झिझकते है.

कभी-कभी पढ़ाई-लिखाई पे ज़्यादा ध्यान देने के कारण serious relationship के लिए तैयार नही होते, तो कभी-कभी carrier या life के priority बदलने के साथ ही पहले प्यार पीछे छूट जाता है.

Attraction means temporary love Attraction इंसान की खूबसूरती, उसके look, उसके body language से होती है और ज्यादातर ये एकतरफ़ा होता है. कभी-कभी दोनो तरफ से भी attraction होता है. कभी-कभी सिर्फ crush बनकर ही रह जाता है और कभी-कभी mutual understanding की वजह से एक रिश्ते का भी रूप ले लेता है.

लेकिन attraction जो होता है, temporary love होता है वो जो एक साथ कई लोगो से हो सकता है. ये जरूरी नही है कि हमें जिसके प्रति attraction हो रहा है उसे भी हमारे अंदर कुछ बात नजर आए या हमसे प्यार हो जाए.

अगर थोड़ी बात-चित शुरू हो गई तो हम बिना सामने वाले की इच्छा जाने उसपर अपना हक नही जाता सकते. हम सामने वाले की सोच और इच्छा जाने बिना उसे अच्छी तरह से समझे बिना ही उनसे बहुत सी expectation पाल लेते है. लेकिन जब सामने वाला उन expectation को पूरा नही कर पता है, या हमारी expectation पर खरा नही उतर पाता है तो ये attraction बहुत जल्दी ख़तम हो जाता है.

अगर हमारी प्यार की रफ़्तार बहुत तेज़ी से बढ़ रही है तो समझ जाना चाहिए की ये प्यार नही सिर्फ़ attraction है. Attraction वाला प्यार बहुत जल्दी शुरू होता है और बहुत जल्द बहुत कुछ पाने की ख्वाहिस मे ख़तम भी हो जाता है. कभी-कभी attraction सिर्फ सिर्फ़ हवास और वासना के कारण भी हो जाता है जो दिखावे का प्यार होता है.

Attraction normaly से-क्स पर आकर रुक जाता है या ख़तम हो जाता है. Attraction किसी एक से नही होता है ये एक साथ कई लोगो से हो सकता है. इसमे इंसान किसी एक आदमी के साथ बँधकर नही रहना चाहता है.

इसमें commitment की कमी होती है. अगर एक इंसान से ज़रूरते पूरी नही हुई तो इंसान उसे छोड़कर दूसरे इंसान के पास अपनी ज़रूरते पूरी करने चला जाता है. थोड़ी सी problem होने पर उसे छोड़ किसी दूसरे के पास चले जाते है.

पर सच्चा प्यार (True Love) बिल्कुल अलग होता है. True Love कभी भी किसीको देखते ही नही होता है. सच्चा प्यार तो एक-दूसरे को जानने ओर समझने के बाद होता है. सच्चे प्यार मे कोई जल्दबाज़ी नही होती इसमे एक ठहराव होता है, इसमे दोनो की understanding होती है, एक-दूसरे पर भरोसा होता है, एक-दूसरे की respect होती है.

सच्चा प्यार सिर्फ़ एक से ही होता है. सच्चा प्यार हेमेसा के लिए होता है. ये कभी ख़तम नही होता क्यूंकि ये एक-दूसरे को जानने और समझने के बाद होता है. सच्चे प्यार मे लोग एक-दूसरे के मन से जुड़े होते है. दिल की गहराइयो से जुड़े होते है . सच्चे प्यार मे commitnet होती है, responsibility का एहसास होता है.

सच्चे प्यार करने वाले चाहे दुनिया के किसी भी कोने मे हो लेकिन वो मन से, दिल से, आत्मा से हमेसा पास होते है. एक-दूसरे के साथ होते है, एक-दूसरे के साथ जुड़े होते है. सच्चा प्यार हवस, वासना, रंग, रूप, look , खूबसूरती इन सब से परे होता है. ये दो आत्माओ का मिलन होता है.

सच्चा प्यार कभी नही हारता है, बेसक उसे अपनी मंज़िल ना मिले लेकिन वो कभी ख़तम नही होता है, अमर हो जाता है. सच्चे प्यार मे लोग एक-दूसरो की खुशियो ख़याल रखते है, एक-दूसरे को care करते है. सुख-दुख और problems मे हमेशा साथ रहते है और जिंदगीभर साथ निभाते है.

जब किसी से सच्चा प्यार हो जाता है तो उनकी, feeling उनके सपने एक हो जाते है.

इन्हें भी पढ़े


इस आर्टिकल को अपने अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे
  •  
  • 2
  •  
  • 2
    Shares

2 thoughts on “True Love और Attraction में क्या फर्क होता है ?

  1. Sir main preshan hu bahut jyada kya krun aap hi btaye hamare bech ldai bahut hoti hai sir kya krein jo ladai band ho jaye sir pls tell me pls pls pls pls main bahut dhukhi hu mera naam suraj hai

    1. सूरज जी पहले तो आपको ये समझना होगा कि आप दोनों के बिच लड़ाई किस वजह से होती है , अगर लड़ाई की वजह आप है तो आप अपने आपको सुधारे .. अगर लड़ाई की वजह आपकी partner है तो , उनके साथ झगड़ा करके झगड़े को न बढ़ाये … उनसे पूछे की क्यूँ वो आपसे नाराज है .. उनकी नाराजगी को दूर करने की कोसिस करें..

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to top