गर्भवती महिला को क्या तकलीफ होती है और क्या करे ?

अगर आप पहली बार माँ बनने वाली है तो आपये लिए pregnancy का हर एक पल आपको थोड़ा tension में डाल सकता है क्यूंकि आपका शरीर आपके control में नहीं होता और आप हमेसा confuse रहते हो कि ऐसा क्यूँ हो रहा है और क्या ये normal है ? इस मामले में घर के बड़े जैसे – सास, माँ, ननद आपकी काफी मदद कर सकती है. आज हम आपको इसी के बारे में बताएँगे कि pregnancy के में क्या क्या तकलीफे हो सकती है और किस हद तक सब normal रहता है.. तो आइये जानते है ..

Pregnancy में क्या क्या तकलीफ होती है और क्या करे ?

गर्भावस्था में तकलीफें

1. मिचली आना

मिचली आना मतलब जी मचलना. ऐसी स्तिथि उल्टी आने से पहले महसूस होती है. अगर आपको सुबह सुबह मिचली आ रही है तो ये normal बात है. गर्भधारण के बाद सुबह के समय मिचली आना आम समस्या है. यह समस्या धीरे-धीरे अपने आप काबू में आ जाती है. इसलिए अगर आपको मिचली आ रही है तो tension लेने कि जरुरत नहीं ये ये सामान्य बात है और हर गर्भवती महिला को मिचली आती ही है.

जरुर पढ़े :मुझे कैसे पता चलेगा कि मैं pregnant हूँ या नहीं ?

2. कमर में दर्द रहना

आप pregnant हो और आपके शरीर में एक नयी जिंदगी पनप रही है और वक़्त के साथ साथ वो बड़ा भी हो रहा है. पेट में पल रहा शिशु वक़्त के साथ साथ बढ़ता है और ऐसे में आपके पेट का आकर भी बढेगा, पेट में खिचाव और बच्चे के भार से आपके कमर में दर्द तो होगी ही. तीन महीने तक कमर दर्द बढ़ने लगता है, क्योंकि शरीर का तनाव और बच्चे का भर बढ़ता जाता है.

3. Delivery के बाद कमर में दर्द

कुछ महिलाओं का कमर दर्द delivery के बाद खत्म हो जाता है, लेकिन जो महिलाएं ध्यान नहीं रखती उनमें यह समस्या हमेशा के लिए घर कर जाती है. कुछ महिलाओं को pregnancy के दौरान पीठ और कमर दर्द की समस्या हो जाती है . Doctor से जरुर दिखा लें.

ऐसा नहीं है कि delivery के तुरंत बाद में ही आपका कमर दर्द एकदम से गायब हो जाये, delivery के कुछ दिन के बाद ही आपको अपने कमर और पेट दर्द में राहत महसूस होगी. लेकिन अगर ऐसा नहीं होता है तो आप अपने doctor से जरुर इसके बारे में consult करे.

इसे भी पढ़े :गर्भावस्था में क्या-क्या सावधानिय बरतनी चाहिए ?

4. भरी सामान न उठाये

आप pregnant है तो आपके शरीर में बदलाव 2 महीने के बाद ही देखने को मिलेंगे, मतलन के शिशु के विकाश के साथ-साथ आपके पेट का आकर भी बढ़ता हुआ नजर आता है जो कि 2 महीने के बाद ही कुछ हद तक आप notice कर सकते हो.

Pregnancy के सुरुवाती दिनों में pregnancy के लक्षण का पता नहीं चलता और अगर आपको पता है कि आप pregnant हो और फिर भी कड़ी मेहनत, भरी सामान उठाना जैसे काम कर रहे हो तो ये आपके और आपके बच्चे के लिए खतरनाक हो सकता है.

Pregnancy के दौरान अगर आप कड़ी मेहनत करते हो तो ये गर्भ पात का कारण बन सकता है इसलिए Pregnancy के दौरान भारी सामान ना तो उठाएं और ना सरकाएं.

5. ज्यादा काम और ज्यादा आराम ना करे

कामकाजी महिलाएं सारा दिन ना तो एक जगह पर बैठी रहें और ना ही देर तक खाड़ी रहें. कुछ देर उठ कर टहल लें. जब उठें, तो शरीर को starch करें.

इसे भी पढ़े :नवजात शिशु की देखभाल कैसे करे ?

शुरू से दर्द रहा है, तो हल्की मसाज ले सकती हैं. दर्द वाले स्थान पर गरम पानी से सिंकाई करें. Doctor की सलाह पर Pelvic support belt पहल सकती हैं. हल्की-फुल्की exercise रोज करें. जब बैठे, तो कमर के पीछे तकिया लगाएं. आरामदायक shoes पहनें, पूरी नींद लें.

अगर गुप्तांग में itching की समस्या है, खुजली परेशान कर रही है, तो urine test करा के infection की जांच कराएँ. अगर कुछ न निकले, तो समझें कि ऐसा vagina PH level में आ रहे बदलावों की वजह से हो रहा है. यह normal बात है. इस itching से छुटकारा पाने के लिए baking soda में पानी मिला कर पेस्ट बनाएं और प्रभावित हिस्से में लगाएं. सफाई का पूरा ध्यान रखें . ख्याल रखें कि vagina हमेशा साफ और सुखा रहे .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.