Pregnancy में तकलीफें – Difficulties in Pregnancy, in Hindi

अब आप हमसे directly बात कर सकते हो.. ज्यादा जानकारी के लिए निचे दिए गए contact बटन पर click करे.

Pregnancy में तकलीफें – Difficulties in Pregnancy, in Hindi
गर्भधारण के बाद सुबह के समय मिचली आना आम समस्या है . यह समस्या धीरे-धीरे अपने आप काबू में आ जाती है .

तीन महीने तक कमर दर्द बढ़ने लगता है , क्योंकि शरीर का तनाव और बच्चे का भर बढ़ता जाता है .

कुछ महिलाओं का कमर दर्द delivery के बाद खत्म हो जाता है , लेकिन जो महिलाएं ध्यान नहीं रखती उनमें यह समस्या हमेशा के लिए घर कर जाती है .

कुछ महिलाओं को pregnancy के दौरान पीठ और कमर दर्द की समस्या हो जाती है . Doctor से जरुर दिखा लें .

Pregnancy के दौरान भारी सामान ना तो उठाएं और ना सरकाएं

कामकाजी महिलाएं सारा दिन ना तो सिट पर बैठी रहें और ना ही देर तक खाड़ी रहें . कुछ देर उठ कर टहल लें . जब उठें , तो शरीर को starch करें .

शुरू से दर्द रहा है , तो हल्की मसाज ले सकती हैं . दर्द्वाले स्थान पर गरम सिंकाई करें . Doctor की सलाह पर पेल्विक सपोर्ट बेल्ट पहल सकती हैं . हल्की-फुल्की exercise रोज करें . जब बैठे , तो कमर के पीछे तकिया लगाएं . आरामदायक shoes पहनें , पूरी नींद लें .

अगर vagina में itching की समस्या है , खुजली परेशान कर रही है , तो urine टेस्ट करा के infection की जांच कराएँ . अगर कुछ न निकले , तो समझें कि ऐसा vagina PH level में आ रहे बदलावों की वजह से हो रहा है . यह normal बात है . इस itching से छुटकारा पाने के लिए backing soda में पानी मिला कर पेस्ट बनाएं और प्रभावित हिस्से में लगाएं . सफाई का पूरा ध्यान रखें . ख्याल रखें कि vagina हमेशा साफ और सुखा रहे .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *