दही खाइये , स्वस्थ रहिये – Eat yogurt, stay healthy… In Hindi

अब आप हमसे directly बात कर सकते हो.. ज्यादा जानकारी के लिए निचे दिए गए contact बटन पर click करे.

दही खाइये , स्वस्थ रहिये – Eat yogurt, stay healthy… In Hindi, dahi khane ke fayde, dahi khane se kya hota hai ?, dahi ke fayde

आयुर्वेद के सिधांत के अनुसार अधिकांश रोगों की जड़ है पेट का साफ नहीं रहना और पेट तथा आंतो की सफाई के लिए दाही सर्वोतम खाद्य पदार्थ है .

दही में दो प्रकार के bacteria पैदा हो जाते है Lactobacillus और Streptococcus Thermophilus . पेनेसिलिन एवं टेट्रासाईक्लीन जैसे जिवनाशक दवाई के प्रयोग से जिनकी आंतो के पोषक कीटाणु मर जाते है यदि वे दही का सेवन करें तो ये पोषक कीटाणु फिर पनप जाते है . अमेरिका के आहार -विशेषज्ञों ने निष्कर्ष निकाला है कि दही के नियमित सेवन से आंतों के रोग और पेट की बीमारियां नहीं होती तथा कई प्रकार के विटामिन ‘बी ‘ बनने लगते है . दही में जो बैक्टीरिया होते है जो ‘लाक्टेज’ एल्जाइम उत्पन्न करते है .

पोषण की दृष्टी में दही दूध से कई प्रकार से श्रेष्ठ है . दही में फोलिक acid प्रचुर मात्रा में होता है जो कि रक्त कड़ों के नीर्माण में तथा भूर्ण वृद्धि में महत्वपूर्ण है . दूध की अपेक्षा दही में प्रोटीन , लेक्टोज , कैल्शियम , लोहा , फॉस्फोरस आदि कई विटामिंस होते है , इसलिए दही को अधिक पोषक माना जाता है . दही में मौजूद बैक्टीरिया और पोषक तत्व शारीर के लिए एंटीबायोटिक का काम करते है .

दही में cancer एव अन्य रोगियों को भी राहत मिलती है . दही से सिर धोने और नहाने से बालों की रुसी दूर हो जाती है , बाल काले चमकीले और लम्बे हो जाते है और चमड़ी की झुरियां मिट जाती है .

वजन कम करने का सबसे असरदार इलाज माना जाता है दही . दही में मौजूद कैल्शियम की वजह से हडिडया और दांत मजबूत होते है . Osteoporosis जैसी बीमारी से लड़ने में भी दही काफी मददगार है . दही के  नियमित सेवन से शारीर में cholesterol को कम किया जा सकता है . जिन लोगों को दूध हजम नहीं होता है , उन्हें दही या मटठा लेना चाहिए .

स्वस्थ्य की दृष्टी से ताजा एवं बिना किसी मिलावट के ही दही का प्रयोग करना चाहिए . High Blood Pressure और ह्रदय के रोगियों के लिए दही बहुत उपयोगी है .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *