अपने बच्चे को सफल कैसे बनाएं – How to make your child successful Parenting Tips In HINDI

अब आप हमसे directly बात कर सकते हो.. ज्यादा जानकारी के लिए निचे दिए गए contact बटन पर click करे.

अपने बच्चे को सफल कैसे बनाएं – How to make your child successful Parenting Tips In HINDI, bacche ko kamyab kaise banaye, bacche ko successful kaise banaye?

लोग यह सुनकर चौक गए . बात चौकने वाली थी और अविश्वसनीय भी . इस दुनिया में ऐसी कौन माँ होगी जो अपने बच्चे को चोर और बदमाश बनायेगी ? चोर ने शुरू से बताते हुए कहा कि जब वह छोटा था तो अक्सर अपनी माँ को चोरियां करते देखता था . माँ किसी के बर्तन चुरा लाती , किसी के dress और किसी का अनाज ले आती . माँ को देखते-देखते एक दिन खुद उसके मन में भी चोरी करने का ख्याल आया और वह एक पड़ोसी की मुर्गी चुरा लाया . माँ बहुत खुश हुई और इस तरह छोटी-छोटी चोरियां करते हुए वह बड़ा चोर बन गया .

मैं नहीं जनता कि इस story में कितनी सच्चाई है . लेकिन यह पूरी तरह सच है कि हमारे बच्चे वही बनते है जो हम उन्हें बनाते है और वही करते है जो हम करते है .

घर बच्चे की primary school है और माता-पिता उसके पहले teacher है . बच्चा हर काम में अपने माता-पिता की copy करता है और वही सीखता है जो उसे सिखाया जाता है . अपने बच्चे को successful , व्यवहार-कुशल एवं शिष्ट बनाने के लिए ये जरूरी है कि आप उसे अच्छे संस्कार दें , अच्छी education दें .

अपने बच्चे को शिष्ट एवं सभ्य बनाने के लिए जो education उसे आप दे सकते है , वह education उसे घर से बाहर नहीं मिल सकती . लेकिन इसके लिए यह जरूरी है कि आपके अन्दर भी वे संस्कार मौजूद हो  जो आप अपने बच्चों को देना चाहते है . इसके लिए आपका उच्च शिक्षा प्राप्त होना जरूरी नहीं . अनपढ़ माता-पिता की संतानें भी व्यवहार कुशल एवं योग्य होती है .

आप क्या है ?

अपने business में बहुत से लोगों से मिलने का मौका मुझे मिलता है . मैंने देखा है – बहुत से व्यक्ति successful businessman है , qualified teacher  है अथवा qualified doctor है . लेकिन उनमे शायद ही कुछ ऐसे व्यक्ति है जो अपने आपको qualified father कह सकते है .

  • क्या आपने कभी self-analysis किया है ?
  • क्या आपने कभी अपने संस्कारों की ओर ध्यान दिया है ?
  • क्या आपके अन्दर वे सभी qualities मौजूद है जिन्हें आप अपने बच्चों में देखना चाहते है ?
  • क्या आप खिद भी व्यवहार-कुशल है और लोगों से मिलते time शिष्टाचार के नियमों का पालन करते है ?

अगर नहीं , तो फिर आपको अपने बच्चे से निराशा ही मिलेगी . लेकिन इसके लिए भी आप अपने बच्चे को ही दोषी ठहरायेंगे . क्योंकि अहंकार वश और यह सोचकर कि आप बड़े है आप न तो अपनी बुराइयों की ओर ध्यन देंगे न ही अपने आपको सुधारने का प्रयास करेंगे .

इस article को पूरा पढ़ने के लिये Next Page पर जाये.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *