Brush करने का ढंग – How To Use Tooth-Brush ? in Hindi

Posted on

ब्रश करने का ढंग – How To Use Tooth-Brush ? in Hindi.. Brush kaise kare, brush karne ka tarika

◆ अगर आप अपने दांतों को साफ रखने के लिए tooth-brush इस्तेमाल करते हैं तो इस काम के लिए ऐसा brush use करना चाहिए जिसके बाल अधिक लम्बे या अधिक मुलायम न हों . Use करने से लगभग 10-15 मिनट पहले इसके बालों वाला भाग पानी में भिगों देना चाहिए ताकि brush करते समय उसके बाल मसूड़ों में चुभें नहीं .

◆ Brush से दांतों को साफ करने का उचित ढंग यही है कि brush का दाएँ हाथ से पकड़कर ऊपर वाले दांतों पर इस प्रकार रखें जिससे कि brush का बालों वाला भाग मसूड़ों वाला भाग दांतों पर ऊपर से निचे की तरफ चले . इस ढंग से brush करने से ऊपर वाले दांतों के बिच में फंसे भोजन के कण आदि सरलता से बाहर निकल जाएंगे . इसके साथ ही दांतों और मसूड़ों की भी अच्छी सफाई हो जाएगी .

◆ दांतों को स्वस्थ रखने के लिए tooth-brush के स्थान पर कीकर या नीम की ताजा दांतून अधिक गुणकारी रहती है क्योंकि दांतून को चबाने से दांतों का व्यायाम भी हो जाता है किन्तु जिनके मसूड़े कमजोर हो गए हों उनके लिए दांतून का प्रयोग हानिकारक सिद्ध होता है . इसलिए कमजोर मसूड़े या रोगी-दांतों वाले के लिए soft tooth-brush उपयुक्त रहता है .

◆ Tooth-brush खरीदते समय सस्तेपन के लालच में कभी नहीं पड़ना चाहिए . खुद के लिए किसी famous और अच्छी कंपनी का बना brush ही लेना चाहिए . दांतों को साफ करने के बाद brush को खूब अच्छी तरह से धोकर तथा साफ करके डिब्बे में करके रख देना चाहिए , ताकि इस पर धुल या मिटटी न बैठने पाए .

ब्रश करने का ढंग – How To Use Tooth-Brush ? in Hindi.. Brush kaise kare, brush karne ka tarika

◆ एक बार ख़रीदा गया tooth-brush दो-तीन महीने तो ठीक रहता है , लेकिन उसके बाद कम का नहीं रहता . बाल आदि घूम जाने के बाद उसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए . पैसों के लालच में दांतों का हानी नहीं पहुचानी चाहिए .

◆ यदि आपके दांतों की जड़ों वाले भाग पर उनके पीछे की तरफ ( मुंह में अंदर की ओर ) काले या पीले रंग की मैल की परत जम गई हो और brush करते समय भी वो न उतरे तो उसे किसी अच्छे dentist से मालिश द्वारा साफ करना ही अधिक अच्छा रहता है . समय रहते इसकी सफाई करा लेने से , दांत को खोखला होने का कोई अवसर नहीं मिलता है . इस संबंध में लापरवाही से काम नहीं लेना चाहिए क्योंकि मैल की यह परत जब अधिक बढ़ जाती है तो इसके प्रभाव से दांत में गड्डे से पड़ने लगते हैं और उसे ही कीड़ा लगना कहा जाता है .

◆ खराब दांतों का इलाज यदि ठीक समय पर करा लिया जाए तो उनके आस पास के दांत भी खराब होने के बच जाते हैं और अधिक कष्ट या कठिनाई का भी सामना नहीं करना पड़ता है . इसलिए सुबह शौचालय से निव्रत्त होने के तुरंत बाद दांत साफ करे . इसके लिए तुरंत दांतून , मंजन अथवा पेस्ट जो भी मिले प्रयोग करें . उद्देश्य एक है कि दांतों की भली भांति सफाई हो .

आपके लिए लिखे गए लेख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.