बचत जीवन का मूल मंत्र – Save Money, The Key To Life

अब आप हमसे directly बात कर सकते हो.. ज्यादा जानकारी के लिए निचे दिए गए contact बटन पर click करे.

बचत जीवन का मूल मंत्र – Save Money, The Key To Life

अपनी समृद्धि के लिए मनुष्य को जो बात सबसे पहले सीखनी चाहिए वह यह है कि बचत कैसे करे . यदि वह धन बचाता है , तो यह सबसे अच्छी आदत है और अन्य आदतों से बहुमूल्य भी . बचत ही समृद्धि का मूलमंत्र है और सौभाग्य का मूलधन भी . सभ्य और जंगली व्यक्ति में भेद जताने वाली बात बचत है . बचत से समृद्धि तो होती ही है , मनुष्य के चरित्र का निर्माण भी होता है .

आज के व्यक्ति धन को कुछ नहीं समझते और उसे यूं ही नष्ट कर देते हैं . उनको यह ज्ञान नहीं कि उसी पर समृद्धि की नीव रखी जा सकती है . व्यक्ति की आय कितनी भी कम हो , पर यदि वह उसमें भी बचत करता है , तो कोई-न-कोई आरम्भ किया जा सकता है . जिस व्यक्ति के पास कुछ भी नहीं , वह तो असहाय है . वह धंधा या व्यापार आदि भी तो नहीं कर सकता .

जब लोग निर्धन हो जाते हैं तो उन्हें आत्मरक्षा करने और सम्मान बचाने में भयंकर कठिनाई होती है . धन बचत करने की आदत अवश्य डालनी चाहिए , क्योंकि सोच समझकर की हुई बचत को आप कभी उदारपुर्वक किसी जरूरतमंद को दान भी कर सकते हैं और आवश्यकता पड़ने पर खर्च भी कर सकते हैं .

बचपन में बच्चे अनेक प्रकार की चीजें इकट्ठी करते हैं . यह आदत अच्छी है , इसे प्रोत्साहित किया जाना चाहिए और इसका विकास करके इसे धन की बचत की ओर लाना चाहिए . यह सही है कि बड़े लोगों या व्यापारियों को सुतली , डोरी और पैकिंग का बचा हुआ सामान संभालकर रखने की फुरसत नहीं होती , परन्तु यदि उन्हें किसी प्रकार बचाकर रख लिया जाए , तो आड़े वक़्त में यही चीजें बहुत काम आती हैं

युवावस्था में प्राय: अधिकांश लोग लोभ-लालसाओं में रूपए बरबाद करते है , परन्तु चतुर और बचत करने वाला व्यक्ति इस प्रकार की वृत्तियों से बचा रहता है . Frenklin अपने जीवन की इस महान कला के आधार पर ही लोकप्रिय ही नहीं अमर भी हो गया . उसकी यह व्यावसायिक बुद्धिमानी ही प्रौढ़ावस्था तक पहुँचते-पहुँचते उसे महान बना गई .

एक अर्थशास्त्री (economist) ने लिखा है कि कोई भी देश अर्थ-संकट (economy crises) के दिनों में देशवासियों की छोटी-छोटी बचत-राशियों से महान संकट से पाने को बचा सकता है . जब उत्पादन स्थिर हो और व्यय कम , लोग सोच-समझकर पैसा खर्च करते हों , तो देश अधिक समृद्ध होता है .

आप कोई चीज खरीदना चाहतें हैं , तो उसके लिए अभी से बचत आरम्भ कीजिए . इसका उपाय यह है कि यदि आप खाने में दस रूपए खर्च करते हैं , तो ऐसा प्रयत्न कीजिए आठ रूपए में ही काम चल जाए . एक आदमी की इच्छा सोने की घड़ी खरीदने की थी . वह अपने दोपहर के खाने पर जो खर्च करता था , उसने निश्चय किया कि अब वह आधे में काम चलाएगा . कुछ दिनों में इतनी रकम इकट्ठी हो गई की वह घड़ी खरीद सकता है .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *