जीवन इतना ही नहीं – Life is not only this, In HINDI

अब आप हमसे directly बात कर सकते हो.. ज्यादा जानकारी के लिए निचे दिए गए contact बटन पर click करे.

कुछ लोग दुसरे जीवन की बात छोड़ दी पर हमनें नहीं छोड़ी . हमारे ऋषियों ने नहीं छोड़ी और हमारे धर्मग्रंथों ने भी नहीं छोड़ी . वह कहते हैं – जीवन एक सतत बहती हुई धारा है , इस पर न जाने जन्म-मृत्यु रूपी कितने दिन-रात व्यतीत हो गये . एक स्थान पर भगवान ने सखा अर्जुन से कहा भी है कि – ‘ तू यह मत सोच कि हम और तुम इसी जन्म में इकट्ठे हुए हैं , मेरा तेरा अनेक जन्मों का साथ है . मुझे सब पता है , तुझे इसकी याद नहीं है . ‘

तुन जानते हो , एक फल लगता है , कुछ समय लगा रहता है , बढ़ता है , फिर पाक कर गिर जाता है , और आगे वही फल दुसरे वृक्ष को जन्म देता है , ऐसे ही – यह शरीर पैदा होता है , कुछ काल बढ़ता है , फिर वृद्ध होकर समाप्त हो जाता है , परन्तु इसी से आगे की सन्तान का निर्माण होता है . केले का एक पेड़ पैदा हुआ , वह बढ़ा फल आया , समाप्त हुआ – साथ ही दुसरे पेड़ जड़ में से निकल कर ऊपर आ गया , वह कभी नाश नहीं होगा . इसलिए अपने जीवन को क्षुद्र नहीं बल्कि महान समझो , क्षणभंगुर नहीं बल्कि अमर समझो , क्योंकि ऐसा पता लग चूका है कि शरीर मरता है , जीव की मृत्यु नहीं होती .

जैसे पुरुष पुराने वस्त्र उतार कर नये वस्त्रों को पहन लेता है , ऐसे ही जीवात्मा पुराने को त्याग कर नये शरीरों को धारण कर लेता है . उसी ज्ञान की हमें आवश्यकता है .

जब हमें ज्ञान होगा तो हम मरेंगे नहीं , कल भी हमें इसी संसार में रहना है . तब फिर , थोड़ा समझदारी से काम लो . हम आज जो सब इकट्ठे हुए हैं , अकारण नहीं – किसी कारण से ही है , पारस्परिक एक वास्तविक स्नेह है . तुम सोचो किसी से दवेष भी हो जाय , तो हमारा लगाव उससे रहता है . हमारा लगाव मनुष्य से है , यहाँ तक कि वह पर्वतों से है , नदियों से है और वृक्षों से भी है .

यहाँ यह सब कुछ न हो तो मनुष्य ठहर नहीं सकता . बड़े-बड़े ऋषियों को देखा है , वह चाहे मनुष्यों से अलग रहे हों , परन्तु गायों से , हिरणों से , फूलों से , पक्षियों से , जंगली जानवरों से खूब मिले हैं . वे उनसे बात करते और कभी सब छोड़ मनुष्यों से मिलने को भी निकल आते हैं क्योंकि हम आत्मा एक परमेश्वर का रूप है , हर वाणी उस परमेश्वर की वाणी है , और हर एक का आनन्द उस ईश्वर का आनन्द है .

बस जब हमारा यह राग-द्वेष मिट जायेगा तो हर जीव ईश्वर की ही कोटि का दिखाई देगा . बच्चे चाहे पानी और बर्फ में बहुत बड़ा अन्तर समझतें हों , परन्तु बड़े जानते हैं , कि जल से ही हिम बन गई है .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *