खीर खाने से क्या होता है ? Summer useful benefits of Cucumber in Hindi

अब आप हमसे directly बात कर सकते हो.. ज्यादा जानकारी के लिए निचे दिए गए contact बटन पर click करे.

आयुर्वेद के अनुसार खीरा स्वादिष्ट , शीतल , प्यास , दाह , पित्त तथा रक्त पित्त दूर करने वाला , रक्त विकार और मूत्र कच्छनाशक फल है . खीरे की तासीर ठंडी है , गुणों की दृष्टि से यह ककड़ी से मिलता-जुलता फल है , इसके सेवन से प्यास शांत होता है और पेट व जिगर की जलन मिटती है . सलाद में खीरे का उपयोग अक्सर किया जाता है , इसमें vitamin-B और C प्रचुर मात्रा में होता है . Potassium , calcium , phosphorus , गंधक , iron और अन्य अपयोगी तत्व हमें खीरे में मिलते है .

खीर खाने से क्या होता है ?

खीरा कब्ज दूर करता है , खीरे में जलीय अंश काफी मात्रा में होने से बार-बार लगने वाली प्यास में यह राहत पहुंचाता है , छाती में जलन , पेट की गैस और acidity में नियमित रूप से खीरा खाने से लाभ होता है .

मोटापे से परेशान लोगों के लए सवेरे का समय इसका सेवन फायदेमंद होता है , इससे वह दिनभर fresh और शरीर में हल्कापन महसूस करेंगे .

गुर्दों से सम्बंधित बीमारियों में खीरे के रस का सेवन लाभप्रद पाया गया है , शरीर के हानिकारक कीटाणुओं को नष्ट कर , खीरा हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता के विकास में सहायक होता है  .

भूख न लगने की शिकायत में खीरे का सेवन भूख बढ़ाता है .

आंतों की गति को उत्तेजित करने के लिए खीरा रेशा प्रदान करता है इसलिए कब्ज व उदर रोगियों को प्रतिदिन दो खीरों का सेवन जरुर करना चाहिए .

इसके नियमित सेवन से मूत्र विकार दूर होता है तथा पेशाब खुलकर आता है .

खीरे के औषधिय गुण क्या है ?

भोजन के साथ नमक , कली मिर्च , निम्बू डालकर सलाद के रूप में खीरे का सेवन करने से खाना आसानी से पचता है और भूख में वृद्धि होती है .

घुटनों का दर्द दूर करने के लिए भोजन में खीरा अधिक खाएं और लहसुन की एक कली साथ खाएं तो लाभ होगा .

पथरी के रोग में खीरे का रस 250 ग्राम दिन में तीन दफा रोजाना पीना चाहिए . पेशाब में जलन , रुकावट व diabetics में भी यह प्रयोग लाभकारी है .

खीरे के रस में दूध , निम्बू और शहद मिलाकर पुरे शरीर पर लगाने से त्वचा मुलायम , चिकना तथा कांतिवान हो जाती है .

250 ग्राम खीरे के रस को रोजाना प्रति दो दिन बाद पिने से शरीर के भीतर जमा , विजातीय विषाक्त पदार्थ मूत्र और मल के जरिये बाहर आ जाते हैं .

मधुमेह , प्रमेह के रोगियों को भी खीरे का रस कलमी शोरा मिलाकर प्रयोग करना चाहिए .

खीरे का सेवन करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना आवश्यक है

खीरा सड़ा-गला या अधिक देर तक धुप में पड़ा हुआ न हो , यथा संभव दोपहर तक ही खीरा का सेवन करना चाहिए . खीरा एक साथ अधिक मात्रा में खाना हानी पहुंचा सकता है , इसका सेवन करके के आधा-पौन घंटे तक पानी नहीं पीना चाहिए . खीरे के रस को स्वादिष्ट बनाने के लिए उसमें एक चम्मच शहद और आधे निम्बू का रस मिलाया जा सकता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *