ब्लॉग्गिंग करने के दौरान एक समय ऐसा आता है जब ब्लॉग्गिंग करने का मन नही करता। हम पूरी तरह टूट जाते है कि अब हमसे ब्लॉग्गिंग नही हो पाएगा। ऐसा समय हर ब्लॉगर को फेस करना ही होता है, और जो उस समय को फेस करने में कामयाब हो जाता है वो successful blogger के लिस्ट में सामिल हो जाता है। दोस्तों आज हम आपको कुछ ऐसे ही ब्लॉग्गिंग BAD TIME के बारे में बताने वाले है जिसे हर ब्लॉगर अपने ब्लॉग्गिंग career में फेस करता ही है।

ब्लॉग्गिंग करने का passion तो होने ही चाहिए लेकिन passion के साथ-साथ patience भी होना बहुत ज़रूरी है ताकि आप ब्लॉग्गिंग के हर उस बुरे समय हो overcome कर सको जो की आपको blogging quit करने के लिए आपको प्रोत्साहित करता है।

आज जीतने भी successful blogger है अगर आप उनकी लाइफ स्टोरी पढ़ोगे करोगे तो आपको पता चलेगा कि ब्लॉग्गिंग करने और उसमे सफलता पाने में सालो लग जाते है। ब्लॉग्गिंग हमें वो सभी good और bad time भी अनुभव कराती है जिससे ब्लॉग्गिंग करने का passion improve होता है या फिर reduce होता जाता है।

आज हम उन्ही bad time अनुभवों के बारे में discuss करेंगे जिसके चाहते एक ब्लॉगर को ब्लॉग्गिंग से quit करना पड़ जाता है जो की ग़लत है।

एक ब्लॉगर के लिए ब्लॉग्गिंग का सबसे बुरा वक़्त

1. Adsense approve न होना

ये सबसे common fact है जिसकी वजह से ब्लॉग बनाई जाती और ब्लॉग्गिंग से quit भी किया जाता है। अगर किसी का Adsense account approve नही हो रहा तो वो 100% ब्लॉग्गिंग छोड़ ही देता है, वैसे भी कोई कितना अपने ब्लॉग पर मेहनत करे जबकि ब्लॉग से कमाई ही न हो।

मैं ये नही कहता कि Adsense के बिना ब्लॉग से कमाई नही हो सकती, लेकिन Adsense के ज़रिए सबसे easily earning किया जा सकता है।

अब जिनका Adsense account approve ही नही हो रहा है वो क्या करे? जाहिर सी बता है ब्लॉग्गिंग करने में मन नही लगेगा और किसी भी ब्लॉगर के लिए ये सबसे बुरा वक़्त साबित होता है।

जब कोई अपने ब्लॉग बनाता है तो उसके मन में तो ये ख्याल ज़रूर होता है कि एक न एक दिन हमारे ब्लॉग पर भी Adsense ad show होंगे, लेकिन जब Adsense approval नही मिलता तो सपने टूट जाते है, कुछ ब्लॉगर Adsense approval न मिलने पर और भी ज़्यादा जोश के साथ ब्लॉग्गिंग में लगे रहते है और Adsense approval पाने के लिए और भी ज़्यादा मेहनत करने लगते है।

सही मायने में वही लोग ब्लॉगर कहलाने के लायक है जो अपने बुरे समय में यानी की Adsense approve न होने के बाद भी ब्लॉग्गिंग नही छोड़ते। ऐसे लोग एक न एक दिन Adsense approval पाने में कामयाब ज़रूर हो जाते है और अपने passion के ज़रिए कमाई भी करते है।

2. ब्लॉग traffic improve न होना

Adsense approval के बाद ब्लॉग traffic improve करने की चिंता ज़्यादा होती है, ताकि कमाई अच्छी हो सके। अगर आपका Adsense approve हो चुका है तो आपको पता ही होगा की ब्लॉग traffic जब तक improve नही होती तब तक Adsense कमाई भी improve नही हो सकती।

नए ब्लॉग पर traffic न के बराबर आती है, और traffic आने में सालो लग जाते है। मैं social traffic कि बात नही कर रहा, मैं organic traffic की बात कर रहा हूँ। Search engine के ज़रिए ब्लॉग पर traffic आने में बहुत देर लगती है क्यूंकि एक नए पोस्ट को search engine पर rank करने में थोड़ा समय तो लगता ही है।

जब कोई अपना ब्लॉग बना लेते है तो सबसे पहले वो अपने ब्लॉग पर पोस्ट पब्लिश करने का काम करता है और जब वो अपने ब्लॉग पर 20-30 पोस्ट पब्लिश कर देता है तो Adsense के लिए apply करता है। और जब Adsense approve नही हुआ तो दुखी और Adsense approve हो गया तो ब्लॉग पर traffic न आने की वजह से दुखी।

Overall किसी भी ब्लॉग को लोकप्रिय होने में traffic का main role होता है और ब्लॉग traffic की वजह से ही कमाई improve होती है। ब्लॉग्गिंग करने के दौरान एक समय ऐसा भी आता है जब ब्लॉग traffic improve होने की बजाये कम होने लगती है। और इसी वजह से एक bad time start हो जाता है।

तो दोस्तों ब्लॉग की traffic improve न होने को bad time न समझे क्यूंकि regular ब्लॉग्गिंग करने से आपके ब्लॉग की traffic improve होगी।

इन दोनो वजाहो के कारण हर किसी ब्लॉगर को लगता है कि उनका बुरा वक़्त चल रहा है, एक तो Adsense approve न होने का दुख और दूसर ब्लॉग traffic न improve होने का दुख। ये दोनो दुखो को अगर हम positively देखे तो हमें कुछ करना नही है बस हमें regular ब्लॉग्गिंग करना है।

ये तो छोटे छोटे obstacle है भाई, मंजिल तो काफ़ी दूर है, और इन सभी के चक्कर में पड़ोगे तो आप जहा आज हो वही कल मिलोगे। Happy Blogging