क्या आप अपने mobile के जरिये घर बैठे पैसा कमाना चाहते हैं. अगर हाँ तो जल्द ही हमसे whatsapp के जरिये contact करें. हमारा whatsapp number है 7064626632

60 दिन का महीना – Akbar Birbal Story in Hindi

60 दिन का महीना - Akbar Birbal Story in Hindi
60 दिन का महीना – Akbar Birbal Story in Hindi

अकबर बादशाह का दरबार लगा हुआ था . वे राज-काज के काम निपटाकर हमेशा की तरह दरबारियों से बातें कर रहे थे .

अचानक उनके मन में एक विचार आया और दरबारियों से मुखातिब होकर बोले . ‘ एक महिना तीस दिन का होता है . इसमें कितने सारे काम करने पड़ते हिं , अगर महीना 60 दिन का कर दिया जाए तो कैसा रहेगा ? ‘

 

दरबारियों ने एक-दुसरे की तरफ देखा . फिर सभी ने बादशाह की बात का समर्थन किया . ‘ जहाँपनाह , आपका कहना बिल्कुल सहि है . तीस दिन का महिना सचमुच बहुत छोटा है . महीना तो 60 दिन का ही होना चाहिए . ‘

बीरबल अपने आसन पर शान्ति से बैठे थे .

बादशाह ने उनसे पूछा , ‘ क्यों बीरबल , हमारा विचार तुम्हे कैसा लगा ? अगर महीना 60 दिन का हो तो अपना काम ठीक तरह से चलेगा न ? ‘

बीरबल बोले , ‘ जहाँपनाह , आपका विचार वास्तव में बहुत उत्तम है , लेकिन इसके लिए पहले एक काम करना पड़ेगा . ‘

 

बीरबल का समर्थन पाकर बादशाह बेहद खुश हुए . उन्हें सचमुच लगा कि उन्होंने बहुत बढ़िया बात सोची है . वर्ना बीरबल उनकी बात में नुक्स जरुर निकालते .

आनंद-विभोर होकर उन्होंने पूछा , ‘ बीरबल जल्दी से बताओ , हमें क्या करना पड़ेगा ? ‘

बीरबल ने कहा , ‘ जहाँपनाह , चंद्रमा के कारण पृथ्वी पर एक महीने में 15 चांदनी रातें 15 अँधेरी रातें होती हैं . इसलिए पृथ्वी पर 30 दिन का महिना होता है . यह प्रकृति का नियम है . आप चंद्रमा को आज्ञा दीजिए कि वह 30 चांदनी रातें और 30 अँधेरी रातें बनाए . आपकी आज्ञा के अनुसार अगर चंद्रमा यह परिवर्तन कर लेता है , तो तुरंत ही हम 60 दिन के महीने की मुनादी कर देंगे . ‘

 

‘ ऐसा कैसे हो सकता है ? चंद्रमा हमारी आज्ञा क्यों मानेगा ?

‘ अगर ऐसा नहीं हो सकता तो वैसा बी नहीं हो सकता जहाँपनाह , जैसा आप चाहते हैं . हमारी इच्छाओं  से प्रक्रति के नियम नहीं बदल सकते . ‘ बीरबल ने कहा .

बीरबल की समझ से बादशाह को मालूम हो गया कि उन्होंने 60 दिन का महिना करने के जो प्रस्ताव रखा था , वह गलत था . उन्होंने दरबारियों की तरफ देखकर कहा , ‘ तुम लोग इसलिए बीरबल नहीं हो कि बीरबल की भांति तुमने समझदारी नहीं है . तुम केवल चापलूस हो . ‘

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *